दोस्तो हर मा बाप का यह स्वप्न होता है कि, उनके बच्चे बडे अफसर बने. अधिकारी बने. इसके लिये हर मा बाप जी तोड कोशिश करते है. बच्चो को अच्छी पर्वरिष भी देते है. आज हम जानते है हरियाणा के चौधरी बसंत सिंह के बारे मे. जिनोने अपने परिवार के 11 सदस्य को Class-1 officers family बनाया है.

कौन है चौधरी बसंत सिंह

हरियाणा राज्य के जींद जिले के एक छोटे गाव मे रहने वाले चौधरी बसंत सिंह खुद चौथी कक्षा पास थे. लेकिन उन्होने शिक्षा का महत्व समजा और अपने बच्चो को भी शिक्षा का महत्व समझाया. यही एक कारण आहे की चौधरी बसंत सिंह के परिवार के 11 सदस्य Class-1 officers family बने है. चौधरी वसंत सिंह 99 वर्ष की उमर मे इस दूनिया को छोड गये. लेकिन पीछे वह शिक्षा की बहुत बडी सिख छोड गये है.

Class-1 officer family

हरियाणा की चौधरी फॅमिली जिंद जिले के डूमरखा गाव मे रहने वाली है. इस परिवार मे दो IAS एक IPS समित क्लास वन ग्रेड के 11 अफसर शामिल है. बसंत सिंह का संपर्क हमेशा से ही ग्रेड वन ऑफिसर के साथ आया था.Class-1 officers family इसीलिए उंहोने दिल मे यहां लिया था कि अपने परिवार के सदस्य को ग्रेड वन ऑफिसर बनायेंगे. जिसके चलते वह अपने परिवार के सदस्य को ऑफिसर बनने के लिए हमेशा प्रोत्साहित करते थे.

घर भरा है अधिकारियों से

अपने बच्चो के लिए उच्च शिक्षा की रखने वाले चौधरी बसंत सिंह के परिवार में लगभग Class-1 officers family सदस्य अधिकारी है. जिसमे बेटी बेटे बहू और पोती ग्रेड वन ऑफिसर है. उनके चारो बेटे क्लास वन अधिकारी है. बहू और पोता पोती IAS है. उनकी एक पोती IRS अफसर है. बडे बेटे राम कुमार professor थे. अब वह retired है. उनका बेटा यशेंद्र IAS और बेटी स्मिती अंबाला मे रेल्वे मे ASP के पद पर है. स्मिती के पती BSF मे आय जी है. चौधरी वसंत के दुसरे बेटे comfed मे जीएम थे. उनकी पत्नी deputy CEO रह चुकी है. तिसरे बेटे वीरेंद्र SE थे. उनकी पत्नी Indian airline मे deputy manager के पद पर रही है. बसंत सिंह के चौथे बेटे गजेंद्र सिंह Indian army मे colonel के पल से रिटायर हुए है. वर्तमान स्थिती मे वह नीजी पायलट के रूप मे से वादे रहे है.

एक दुसरे को किया सहयोग

चौधरी वसंत सिंह ने अपने परिवार के सदस्य को अच्छे संस्कार दिये. जिसका परिणाम आज देखने को मिलता है. चौधरी जिने परिवार के सभी सदस्य को एक जूट रहने की शिक्षा दि थी. इसका परिणाम यह हुआ, परिवार Class-1 officers family बना उसने परिवार के दुसरे सदस्य को ऑफिसर बनने का रास्ता दिखाया. चौधरी वसंत सिंह ने अपने बच्चो को और उन्होने अपने भाई बहन को आगे बढाया. इतना ही नही चौधरी परिवार आगे बढने वाले छात्रो को गोद लेकर उनकी शिक्षा का खर्चा भी उठाते है.

Author

शिक्षा यानी education जो हमारे जीवन को संस्कारित करती है. हमारे जीवन को आकार देती है. प्रेरणा यानी motivation हमे हर परिस्थिती से लढणे का बल प्रदान करती है. Education and motivation ये दोनो शब्द हमारे जीवन में काफी महत्व रखते है. Education और motivation इस विषय को लेकर हिंदी मे ब्लॉग लिख रहा हू, जिसका नाम है worldtruthblog.

1 Comment

Write A Comment

five × two =