करोना का भारतीय शिक्षा पर प्रभाव

दोस्तो करोना वायरस के चलते पूरी दुनिया मे सभी कारोबार स्कूल कॉलेज बंद हो गये थे. 2020 इस पुरे वर्ष मे स्कूल बंद होने के कारण छात्र का नुकसान हुआ है. शिक्षा के क्षेत्र पर करोना वायरस का बहुत बडा प्रभाव हमे देखने मिलता है. आज हम बात करेंगे Coronavirus impact on Indian education के बारे मे.
Coronavirus का प्रभाव सभी क्षेत्र पर हमे देखने मिलता है. कारखाने ऑफिस और रोजगार की सभी सुविधा बंद हो गई थी.  कॉलेज और स्कुल भी बंद होने के कारण पढाई का क्षेत्र भी पीछे पड गया था.

Coronavirus impact on Indian education

यदी हम आकडो की बात करे तो शिक्षा के क्षेत्र में भारी नुकसान हुवा है. पिछले वर्ष यांनी 2020 लगभग 25 करोड बच्चे प्राथमिक और माध्यमिक स्कूल के प्रभावित हो गये है.
• यदी हम Coronavirus के  impact on Indian education की बात करे तो यह बात सामने आती है .
•  देश के लगभग 1500000 स्कूल बंद थे. Coronavirus के प्रभाव का अध्ययन UNICEF द्वारा किया गया था उसकी रिपोर्ट हाल ही मे प्रकाशित हुई है.
•  ग्रामीण क्षेत्र के लगभग 15 करोड बच्चे एक भी दिन स्कूल नही जा सके.
•  इस रिपोर्ट मे कहा गया है करोना के पहले भी ग्रामीण क्षेत्र के बच्चे स्कूल की पढाई से वंचित की संख्या 60 लाख है.

ऑनलाइन पढाई की मर्यादा

देश के बच्चो की पढाई ढंग से चलती रहे है इसीलिये सरकारने ऑनलाइन पढाई की योजना सुरु की. यदी हम
Coronavirus के impact on Indian education की बात करे तो यह बात सामने आती है इंटरनेट और डिजिटल सुविधा ना होने के कारण देश के बहुत से बच्चे शिक्षा से दूर हो गये.

भारत मे ऑनलाइन सुविधा की कमीया

जहा हम एक और 21 वी सदी की बात कर रहे है वही दुसरी और भारत के ग्रामीण क्षेत्र मे बिजली और इंटरनेट सुविधा का अभाव देखणे मिलता है. देश के शहरो मे यह दोनों सुविधा अच्छी मात्र मे उपलब्ध है लेकिन ग्रामीण क्षेत्र मे काफी समस्या का सामना लोग कर रहे है. यही एक कारण है जिसका प्रभाव हम impact on Indian education पर देख सकते है.

इंटरनेट नही तो शिक्षा भी नही

दूनिया भर मे coronavirus का प्रभाव देखणे मिलता है. आज भी यह बिमारी पुरी तरह से खत्म नही हुई है. इस का सबसे बडा असर शिक्षा के क्षेत्र पर हुआ है. ऑनलाइन एज्युकेशन का विकल्प इंटरनेट की उपलब्धी के अभाव से बिछड गया है. भारत के ग्रामीण क्षेत्र मे आज भी सक्षमता से इंटरनेट की सुविधा उपलब्ध नही है. साथ ही गरिबी के कारण बहुत से परिवार डिजिटल उपकरण नही ले रहे है. जिसकी वजहसे impact on Indian education हम देख सकते है.

अंगणवाडी क्षेत्र भी प्रभावित

भारत की शिक्षा व्यवस्था को लेकर तयार कि गयी UNICEF की यह रिपोर्ट कहती है, coronavirus का परिणाम जहाँ प्रायमरी और माध्यमिक शिक्षा के छात्र पर हुआ है ऐसेही अंगणवाडी के तीन करोड बच्चे भी इस से प्रभावित हो गये है. तीन करोड बच्चे स्कूल मे नही जा सके है. करोना वायरस का impact on Indian education कुछ इस प्रकार सामने आया है.

शिक्षा के लिए सरकार ने क्या प्रयास सकिये

शिक्षा हम सभी के लिए अनिवार्य है. सभी को शिक्षा मिले यह उनका अधिकार भी है. Coronavirus के चलते lockdown शुरू होने के बाद सरकार द्वारा शिक्षा जारी रखने के लिए प्रयास किये गये. जिस्मे वेब पोर्टल, मोबाईल, ॲप, टीव्ही चॅनेल, रेडिओ, पॉडकास्ट जैसे साधनो का इस्तेमाल सरकार द्वारा किया गया. अनेक प्लॅटफॉर्म के माध्यम से सरकारने बच्चो तक पोहोचने का प्रयास किया है.

दुनिया के अन्य देशो मे क्या हुआ

भारत के साथ ही coronavirus की बिमारी दूनिया के सभी देशो मे फैली है. जिस का सीधा असर शिक्षा क्षेत्र पर हुआ है. युनिसेफ के रिपोर्ट मे कहा गया है दुनिया के 14 देश की स्कूल लगभग एक साल बंद थी. जिस का प्रभाव दुनिया के 89 करोड बच्चो पर हुआ है. स्कूल बंद होने के कारण बच्चो की lifestyle परं सीधा असर पडा है.

अन्य संस्था क्या कहती है

देश के शिक्षा क्षेत्र के बारे मे save the children संस्थाने अपनी रिपोर्ट मे कहा है coronavirus  के चलते 63 फीसदी बच्चो की पढाई रुक गई है. इस संस्था ने देश के पंधरा राज्य के लगभग 8000 परिवार का सर्वेक्षण किया है. संस्था की कार्यकर्ता परिवार के सदस्य से मिलकर यह जानकारी हासिल की है.

भारतीय शिक्षा का इतिहास जाने इस लिंक से : History of Indian education system

Author

शिक्षा यानी education जो हमारे जीवन को संस्कारित करती है. हमारे जीवन को आकार देती है. प्रेरणा यानी motivation हमे हर परिस्थिती से लढणे का बल प्रदान करती है. Education and motivation ये दोनो शब्द हमारे जीवन में काफी महत्व रखते है. Education और motivation इस विषय को लेकर हिंदी मे ब्लॉग लिख रहा हू, जिसका नाम है worldtruthblog.

Write A Comment

six + 19 =