भारतीय शिक्षा प्रणाली का इतिहास

दुनिया की सबसे जादा आबादी हमारे देश मे है. इंसान की मूलभूत चीजो मे से एक शिक्षण महत्वपूर्ण है. शिक्षा के क्षेत्र में भारत मे बदलाव लाये है. आज हम जानते है History of Indian education system के बारे मे.

देश मे रहने वाले सभी नागरिक को सभी सुविधा अच्छी तरह से मिले यह देश की प्राथमिकता मानी जाती है. शिक्षा के क्षेत्र में हमारे देश को प्राचीन परंपरा प्राप्त है.

वर्तमान समय मे हमारे शिक्षा का स्तर जाने इस लिक से : Current education system in India

History of Indian education system

यदी हम शिक्षा के इतिहास का विचार करे तो हमे रामायण और महाभारत का समय याद करना होगा. धीरे धीरे इस क्षेत्र में काफी बदलाव आते गये History of Indian education मे सुधार भी किये गये. शिक्षा के क्षेत्र मे बदलाव इस प्रकार है.

  • अंग्रेजो ने 1781 मे इस्लामी अध्ययन प्राप्त करने के लिए कलकत्ता मे मदरसा और बनारस मे संस्कृत कॉलेज की स्थापना की गई.
  • 1837 मे फारसी भाषा को हटाकर न्यायालय की भाषा अंग्रेजी की गई.
  • अंग्रेजी को बढाने के लिए कोलकाता मद्रास बम्बई में विश्वविद्यालय की स्थापना की गयी.
  • साथ ही यह बात नही स्पष्ट की गई सभी समाज के वर्ग को के छात्रो को शिक्षा प्राप्त हो.

भारत का शिक्षा तंत्र का खर्चा

हमारी सरकार  education system को चलाने के लिए बहुत खर्चा कर रही है. जानते है शिक्षा पर होने वाले खर्चे के बारे मे.

  • देश मे 21 वी शताब्दी शुरू होने से पहले 14 वर्ष के सभी बच्चों को अनिवार्य शिक्षा देने के लिए प्रयास किये गये.
  • जिसके लिए केंद्रीय योजना का 64% खर्च उपलब्ध कराया गया था.
  • ग्रामीण आबादी मे एक किलोमीटर के दायरे में कम से कम एक प्राकृतिक विद्यालय स्थापित किया गया.
  • इस प्रयास से साक्षरता दर बढाने का संकल्प किया गया है.
  • सरकार के इस प्रयास से एक बात यह सामने आई है लडकियों की शिक्षा का प्रमाण बड गया है.
  • उच्च शिक्षा का स्तर भी पड गया है देश मे कॉलेज की कुल संख्या 11,102 इतनी है.
  • एक अंदाज के अनुसार विश्वविद्यालय छात्रो की संख्या लगभग 75 लाख है.
  • विश्व विद्यालय अनुदान आयोग के लिए सरकार द्वारा पिछले वर्ष 640 करोड रुपये का बजेट किया गया था.

अन्य देश की तुलना मे भारत का शिक्षा स्तर

इंग्लंड रूस और जपान मे शतप्रतिशत जनसंख्या साक्षर है. यूरोप और अमेरिका में साक्षरता का प्रमाण 90 प्रतिशत है. भारत में प्रतिशत 70 है. Indian education system के बारे मे विचार करे तो साक्षरता का प्रमाण बढाने के लिए प्रयास किये जा रहे है.

ओंन लाईन शिक्षा के फायदे जाने इस लिंक से : Online Education advantages

शिक्षा को बढावा देने वाली देश की संस्था

शिक्षा का स्तर बढाने के लिए विभिन्न संस्थानो की रचना की गई. जो Indian education system को मजबूत बना रही है.

  • National counselling of Education research and training यानी NCERT यह सभी पाठ्यक्रम के लिए काम करती है.
  • केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड यानी CBSE के अंतर्गत देश के सभी केंद्रीय स्कूलों का संचालन किया जाता है.
  • council of Indian school certificate examination यह भारत का एक निजी शिक्षा बोर्ड है. जो दसवी बारवी लिये  है.
  • 1922 मी स्थापित हुआ यूपी बोर्ड सबसे पुराना है.
  • नॅशनल इन्स्टिट्यूट ऑफ ओपन स्कूलींग जिसकी स्थापना मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा की गई.
  • उच्च शिक्षा को बढावा देने के लिए भारत में विश्व विद्यालय अनुदान आयोग UCG की स्थापना की गई है.
  • distance education in India के माध्यम से इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विद्यालय की स्थापना की गई है.

आज जब भी यूपीएससी परीक्षा मे ग्रामीण क्षेत्र के छात्र अच्छे नंबर प्राप्त करते है, यह सरकार द्वारा Indian education system को मजबूत बनाने के प्रयास का ही फल है. इस आर्टिकल मे हमने History of Indian education system को समझने की कोशिश की है. हाला की यह विषय एक आर्टिकल मे समाप्त होने वाला नही है. फिर भी एक प्रयास किया गया है.

Author

शिक्षा यानी education जो हमारे जीवन को संस्कारित करती है. हमारे जीवन को आकार देती है. प्रेरणा यानी motivation हमे हर परिस्थिती से लढणे का बल प्रदान करती है. Education and motivation ये दोनो शब्द हमारे जीवन में काफी महत्व रखते है. Education और motivation इस विषय को लेकर हिंदी मे ब्लॉग लिख रहा हू, जिसका नाम है worldtruthblog.

Write A Comment

thirteen + seventeen =