भारत की शिक्षा नीति और प्रश्न

वर्तमान स्थिति मे भारत मे new education policy को स्वीकार किया है. नई शिक्षा नीति राष्ट्र अथवा समाज की प्रगती का मापदंड माना जाता है. आनेवाली पिढी का भविष्य मानसिक और बौद्धिक रूपसे अच्छा हो इसीलिए यह कदम उठाया गया है. आज हम जानते है indian education issues के बारे मे.

भारत एक विशाल जनसंख्या वाला देश है. यहापर समस्या की मात्रा भी इसी प्रमाण मे देखी जाती है. सरकार अपने स्तर पर समस्या पर इलाज ढूंढने की कोशिश करती है. नई शिक्षा नीति इसी पहलू का एक हिस्सा है. शिक्षा के क्षेत्र मे देखा जाये तो indian education issues काफी मात्र मे सामने आ सकते है.

Indian education issues

जहा एक तरफ भारत में नई शिक्षा नीति को स्वीकार किया गया वही दुसरी तरफ Indian education issues सामने आ रहे है. जानते है क्या है वह.

1 साक्षरता की गती को बढाने के लिए ठोस प्रबंध नही दिखाई देते है.

2 राष्ट्रीय साक्षरता मिशन की माध्यम से क्रांतिकारी परिवर्तन दिखाई दे रहा है. लेकिन दुसरी और ग्रामीण क्षेत्र मे शिक्षा का स्तर बढा नही है.

3 जहा हम नही शिक्षा नीति की बात कर रहे है, वही दुसरी और हमारे संसाधनों की कमी को भी हमे देखना चाहिए.

4 एक रिसर्च के अनुसार भारत में आज भी करीब नवलाख विद्यालयों की आवश्यकता है और यह 16 लाख अध्यापक जरुरी है.

5 ग्रामीण क्षेत्र मे आज भी शिक्षा के स्तर पर सुविधा का अभाव देखने को मिलता है. जो Indian education issues के सामने आकर खडा होता है.

6 प्रांतवाद भाषावाद के स्तर पर भी शिक्षा को लेकर काम करने की जरूरत है. जिससे सभी को एक समान शिक्षा प्राप्त होगी.

भारत की शिक्षा पद्धती मे परिवर्तन

भारत मे स्वतंत्रता मिलने से पहले लागू शिक्षा पद्धतीमे परिवर्तन कीया गया. भारत की सामाजिक रचना को देखते हुए बुनियादी शिक्षा के बारे मे सोचा गया. हमने Indian education issues के बारे मे चर्चा की, अब देखते है इसकी विशेषता क्या है.

1 बुनियादी स्तर पर ठोस उपाय करके सभी वर्ग के लोगो को समान शिक्षा देने का प्रावधान किया गया है.

2 नई शिक्षा नीति मे विकास हेतु विभिन्न संसाधनों-सरकारी, अर्द्धसरकारी तथा निजी सहायता स्त्रोतों की उपलब्धि को सुलभ बनाया गया है.

3 नई शिक्षा नीति में आधुनिक संसाधनों जैसे आकाशवाणी, दूरदर्शन व कंप्यूटर आदि के प्रयोग पर विशेष बल दिया गया है.

4 समस्त केंद्रीय विद्‌यालयों को समान सुविधाएँ उपलब्ध कराई जा रही हैं.

5 छात्र मे व्यवहारिक ज्ञान बढाने के लिए विशेष आधार पर रचना की गई है.

Author

शिक्षा यानी education जो हमारे जीवन को संस्कारित करती है. हमारे जीवन को आकार देती है. प्रेरणा यानी motivation हमे हर परिस्थिती से लढणे का बल प्रदान करती है. Education and motivation ये दोनो शब्द हमारे जीवन में काफी महत्व रखते है. Education और motivation इस विषय को लेकर हिंदी मे ब्लॉग लिख रहा हू, जिसका नाम है worldtruthblog.

Write A Comment

5 × five =