Indira gandhi iron lady. आयरन लेडी के रूप में भारत की पहिली महिला पंतप्रधान श्रीमती इंदिरा गांधी का जन्म 19 नवंबर 1917 को इलाहाबाद के आनंद भवन में हुआ था. उनके पिता पं. जवाहर लाल नेहरू तथा माता का नाम श्रीमती कमला नेहरू था.

Indira Gandhi की प्राथमिक शिक्षा

इंदिरा गांधी को उनके दादा पंडित मोतीलाल नेहरू ‘इंदु’ नाम से बुलाते थे. इंदिरा की प्रारंभिक शिक्षा उनके आवास आनंद भवन में ही हुई. फिर कविवर रविन्द्र नाथ टैगोर द्वारा स्थापित शांति निकेतन में. Indira gandhi iron lady ने कुछ समय तक शिक्षा प्राप्त की. उसके बाद वह उच्च शिक्षा हेतु इंग्लैंड गई वहां उन्होंने आक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में अध्ययन करके वह भारत आ गई.

स्वतंत्रता आंदोलन में सक्रिय

इंदिराजी के पिता जवाहरलाल हमेशा स्वतंत्रता आंदोलन में व्यस्त रहते थे. इंदिरा जी ने बचपन में महात्मा गांधी की प्रेरणा से ‘बाल चरखा संघ’ की स्थापना की. असहयोग आंदोलन के लिए 1930 में बच्चों के सहयोग से ‘वानर सेना’ का निर्माण किया. स्वतंत्रता आंदोलन में सक्रिय सहभागिता के लिए सितम्बर 1942 में उन्हें जेल में डाल दिया गया. 1947 में Indira gandhi iron ladyने दिल्ली के दंगा प्रभावित क्षेत्रों में कार्य किया।

फिरोज गांधी से विवाह

प्रधानमंत्री बनने के बाद नेहरू जी के साथ 1950 के दशक में उन्होंने सहायक के रूप में भी कार्य किया. लंदन में अध्ययन के दौरान ही इनकी मुलाकात फिरोज गांधी से हुई. उन्होंने 26 मार्च 1942 को फिरोज गांधी से विवाह किया. Indira gandhi iron ladyके दो पुत्र राजीव तथा संजय थे. 1960 में पति फिरोज गांधी का स्वर्गवास हो गया.

Indira gandhi iron lady

कठीण परिस्थिती मे इंदिरा गांधी जी ने बडी सक्षमता से निर्णय लिये. जो भारत को प्रगती की राह पर ले कर गये. इसीलिये Indira gandhi iron lady कहा जाता है. 11 जनवरी 1966 को भारत के दूसरे प्रधानमंत्री लालबहादुर शास्त्री की असामयिक मृत्यु के बाद 24 जनवरी 1966 को इंदिरा गांधी भारत की तीसरी और प्रथम महिला प्रधानमंत्री बनीं. इंदिराजी ने अपनी कार्यकुशलता का परिचय देश को दिया.

लंबे समय तक रही पंतप्रधान

भारत की पहिली प्रधानमंत्री बनने के बाद श्रीमती इंदिरा गांधी देश की लंबे समय तक प्रधानमंत्री रही. वह लगातार तीन बार 1967−1977 और फिर चौथी बार 1980−84 देश की प्रधानमंत्री बनीं. 1967 के चुनाव में वह बहुत ही कम बहुमत से जीत सकी थीं लेकिन 1971 में फिर से वह भारी बहुमत से प्रधानमंत्री बनीं और 1977 तक रहीं. 1977 के बाद वह 1980 में एक बार फिर प्रधानमंत्री बनीं और 1984 तक Indira gandhi iron lady देश के प्रधानमंत्री के पद पर रहीं.

 

इंदिरा गांधी जी के कुछ रोचक तथ्य

भारत की पहिली महिला पंतप्रधान Indira gandhi iron lady के नाम से आज भी सबको परिचित है. कार्यकुशलता, अनुशासन और निर्णय देणे की अचूक क्षमता इंदिरा जीके स्वभाव का विशेष था. जानते है उनके कार्यकाल के रोचक तथ्य.

• इंदिरा गांधी ने 1971 के भारत पाक युद्ध में विश्व शक्तियों के सामने न झुकने के नीतिगत और समयानुकूल निर्णय क्षमता से पाकिस्तान को परास्त किया.

• बांग्लादेश को मुक्ति दिलाकर स्वतंत्र भारत को एक नया गौरवपूर्ण क्षण दिलवाया.

• दृढ़ निश्चयी और किसी भी परिस्थिति से जूझने और जीतने की क्षमता रखने वाली प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने पाकिस्तान को विभाजित कर दक्षिण एशिया के भूगोल को ही बदल डाला.

• 1962 के भारत चीन युद्ध की अपमानजनक पराजय की कड़वाहट धूमिल कर भारतीयों में जोश का संचार किया.

• 1975 में आपातकाल लागू करके अपने सभी राजनीतिक विरोधियों को जेलों में डाल दिया. इस कठोर फैसले को लेकर इंदिरा गांधी को भारी विरोध−प्रदर्शन और तीखी आलोचनाएं झेलनी पड़ी थी.

• एक ऐसी महिला जो न केवल भारतीय राजनीति पर छाई रहीं बल्कि विश्व राजनीति के क्षितिज पर भी वह विलक्षण प्रभाव छोड़ गईं. यही वजह है कि उन्हें Indira gandhi iron lady के नाम से संबोधित किया जाता है.

• 1984 में हथियारों से लेस सिख अलगाववादियों ने अमृतसर के स्वर्ण मंदिर में शरण ले ली थी. ‘ऑपरेशन ब्लू स्टार’को लेकर उन्हें कई तरह की राजनीतिक समस्याओं का सामना करना पड़ा.

एक समय ‘गूंगी गुडिया’कही जाने वाली इंदिरा गांधी तत्कालीन राजघरानों के उठे तमाम विवाद के बावजूद बहुत तेजी से भारतीय राजनीति के आकाश पर छा गईं. भारत की iron lady इंदिरा उस वक्त राजनीति एक ध्रुवीय हो गई थी.

इन्दिरा जी देह के रूप में हमारे बीच नहीं है लेकिन वह एक साहसी iron lady के सूक्ष्म रूप में देश सहित सारे विश्व का सदैव मार्गदर्शन करती रहेंगी…

Author

शिक्षा यानी education जो हमारे जीवन को संस्कारित करती है. हमारे जीवन को आकार देती है. प्रेरणा यानी motivation हमे हर परिस्थिती से लढणे का बल प्रदान करती है. Education and motivation ये दोनो शब्द हमारे जीवन में काफी महत्व रखते है. Education और motivation इस विषय को लेकर हिंदी मे ब्लॉग लिख रहा हू, जिसका नाम है worldtruthblog.

2 Comments

  1. Sunil Tayade Reply

    Always you are giving lots of information from whole world. It’s your great passion.

Write A Comment

4 × 1 =