अंगदान करने की जानकारी

भारतीय संस्कृती मे दान का महत्व प्राचीन काल से हम देखते आ रहे है. आधुनिक दौर मे दान करने का तरी का बदल गया है. आज हम अपने नेत्र का दान कर सकते है. अपने शरीर का दान कर सकते है. शरीर दान को अंगदान कहा जाता है. Organ donation करने से एक व्यक्ती ९ लोगो के काम आता है. चलिये देखते है अंगदान करने की जानकारी…

ईश्वर ने इंसान को अद्भुत शरीर दिया है. पूरे जीवन काल मे हम शरीर का उपयोग लेते है. मृत्यु के बाद भी यह शरीर लोगो के काम आ सकता है. Organ donation का उपयोग करके हम सामाजिक क्षेत्र में अपना योगदान दे सकते है. अंगदान की प्रक्रिया को बढाने के लिए हे सामाजिक संस्था भी काम कर रही है.

कब है Organ donation day

किसी के चेहरे पर मुस्कान लाने के लिए यदी हम कार्य करते है तो वह महान कार्य कहलाता है. Organ donation से हम किसी को दुनिया फिरसे दिखा सकते है. किसी के जीवन में फिरसे खुशिया ला सकते है. अंगदान करने की मोहीम आगे बढाने के लिए 13 अगस्त को organ donation day मनाया जाता है.

लेते है जानकारी organ donation की

अंगदान करने के लिए ये दाता के परिवार के सदस्य की मानसिक स्थिती जाना जरूरी होता है. अंगदान का महत्व समजा कर उनको इस प्रक्रिया के बारे मे समझा या जाता है. Organ donation करने के लिए कुछ प्रक्रिया पूरी करनी होती है.

1 दाता को अंगदान का महत्व समझाना.

2 परिवार के सदस्य को अंगदान द्वारा किये जाने वाले सामाजिक कार्य का महत्व बताना.

3 organ donation करने वाले व्यक्ति को निर्धारित फॉर्म भरणा आवश्यक होता है.

4 मृत्यूपश्चात दानी व्यक्ति का शरीर अन्य चिकित्सा केलीये अस्पताल में ले जाना आवश्यक होता है.

5 अन्य चिकित्सा सुविधा के लिए हे भारत सरकार की वेबसाईट के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण सरकार के मंत्रालय से संपर्क किया जा सकता है.

6 organ donor का लिखित सहमती निर्धारित आवेदन पत्र आवश्यक होता है.

अंगदान मे शरीर के कोन से हिस्से लेते है

हाला की भारत में organ donation के बारेमे जागरूकता अभी बडी नही है. फिर भी कुछ सामाजिक संस्था इसके बारे मे प्रयत्न कर रही है. अंग गुर्दे, फेफड़े, दिल, आंख, यकृत, पैनक्रिया, कॉर्निया, छोटी आंत, त्वचा के ऊतक, हड्डी के ऊतक, हृदय वाल्व और नस हैं. इन अवयव का दान किया जाता है.

भारत में organ donation की स्थिति

अन्य देशों की तुलना में भारत में organ donation के बारे मे अधिक काम करने की जरूरत है. क्युकी भारत मे अंगदान करने का प्रतिशत केवल .08 इतना है. जब कि अमेरिका यूके जर्मनी सिंगापूर स्पेन इन देशो मे अंगदान की स्थिती अच्छी है. अब जानते है अन्य देशों की स्थिति क्या है.

1 स्पेन : आपको बता दे पूरी दुनिया में organ donation स्पेन मे सबसे अधिक होता है.

2 संयुक्त राज्य अमेरिका : यहापर अंगदान के बारे में जागरुकता तेजी से बढ रही है साथ ही जरूरत मंद लोगो की संख्या भी बढ रही है.

3 यूनाइटेड किंगडम : पिछले कुछ दिनो से यहापर अंगदान की प्रक्रिया मे सुधार किया गया है.

4 ईरान : एक देश है जो प्रत्यारोपण अंगों की कमी से उबरने में सक्षम है. ईरान में अंग दान के लिए एक कानूनी भुगतान प्रणाली है और यह एकमात्र देश है जिसने अंग व्यापार को वैध किया है.

5 जापान : यहापर सांस्कृतिक कारण और पश्चिमी दवाई पर अविश्वास के कारण अंगदान काफी कम है.

6 चिली : यहा बने कानून के तहत 18 वर्ष से अधिक आयु के नागरिक अंगदान कर सकते है.

भारत मे प्राचीन काल से दान का महत्व समजा या गया है. दानवीर कर्ण का नाम आज भी लिया जाता है. ऐसे स्थिती मे हम सबको organ donation केबारेमे अवश्य विचार करना चाहिये. हमारे अंग का दान करने से किसी व्यक्ति के जीवन में खुशहाली आसक्ती है. किसीकी मुस्कुराहट का कारण हम बन सकते है.

अंगदान के बारेमे यदि आपको कोई जानकारी लेनी हो तो इस लिंक पर क्लिक करे.

https://www.mohanfoundation.org/index.asp

Author

शिक्षा यानी education जो हमारे जीवन को संस्कारित करती है. हमारे जीवन को आकार देती है. प्रेरणा यानी motivation हमे हर परिस्थिती से लढणे का बल प्रदान करती है. Education and motivation ये दोनो शब्द हमारे जीवन में काफी महत्व रखते है. Education और motivation इस विषय को लेकर हिंदी मे ब्लॉग लिख रहा हू, जिसका नाम है worldtruthblog.

Write A Comment

sixteen − 7 =