सब्जी बेचनेवाले के लडके ने पास किया यूपीएससी

शिक्षा एक ऐसा हथियार है जो हर परिस्थिती को बदल सकता है.शिक्षा प्राप्त करणे से आदमी सक्षम होता है हर परिस्थिती से लढणे की क्षमता उसे प्राप्त होती है. परिस्थिती कोई भी हो यदि हिम्मत और कडी मेहनत हम करते रहे तो सफलता आसानी से मिलती है. महाराष्ट्र के एक छोटे गाव के  शरण कांबळे ने युपीएससी एक्झाम मे आठवा स्थान प्राप्त किया है. जानते है Sharan Kamble UPSC exam success story के बारे मे.

महाराष्ट्र के सोलापुर जिले मे बार्शी तहसील के अंदर तडवले नाम का गाव हैं. जहा Sharan Kamble रहते है. आपको बता दे शरण के पिताजी गोपीनाथ और माता सुदामती गाव मे खेती मजदूरी का काम करते है. परिवार चलाने के लिए माता सुदामती सब्जी बेचती है. शरण का घर झोपडी जैसा ही है. इन सारी चुनोती के बाद भी UPSC exam मे शरण मे कामयाबी हासिल की है.

Sharan Kamble UPSC exam success story

यूपीएससी परीक्षा पास करना हर किसी का सपना होता है. इस परीक्षा के पास होने के बाद छात्र को अच्छा पद और प्रतिष्ठा प्राप्त होती है. इसीलिए युवा ओ मे परीक्षा के बारे मे आकर्षण रहता है. आज हम अपने चारो और देखे तो यही बात खयाल मे आती है UPSC exam पास करने वाले छात्रो की परिस्थिती अच्छी नही होती है. कोई संसाधन उनके पास नही रहते है फिर भी कडी मेहनत और जिद्द पकडणे पर यह छात्र यूपीएससी एक्झाम मे अपनी success story बनाते है. शिक्षा के माध्यम से हर परिस्थिती को बदला जा सकता है इस बात से साबित होता है.

यदि आप युपीएससी परीक्षा मे सफल होना चाहते है तो यह लिंक आपके लिये है : UPSC exam tips

शरण कांबळे की कहानी

सोलापुर जिले के बार्शी तहसील मे तडवले नाम का गाव है जहा पर Sharan Kamble अपनी माता पिता के साथ रहते है. 2019 मे UPSC exam द्वारा c a p s assistant commandent group A परीक्षा ली गई थी जिस्मे शरण कांबळे ने देशभर मे आठवा स्थान प्राप्त किया है. शरण का प्राथमिक और माध्यमिक शिक्षण तडवळे गाव के यशवंतराव चव्हाण स्कूल मे हुआ था. 2016 मे शरण मे सांगली के वालचंद कॉलेज मे इंजीनियरिंग किया था. 2018मे बंगलोर के इंडियन इन्स्टिट्यूट ऑफ सायन्स मे मास्टर ऑफ टेक्नॉलॉजी की पदवी प्राप्त की थी. शिक्षा प्राप्त करने के बाद Sharan Kamble को एक कंपनी मे बीस लाख रुपये पॅकेज की नोकरी मिल रही थी. लेकिन उसमे वहा छोड दि और यूपीएससी एक्झाम देने के लिए तयारी सुरू कर दी.

शरण कांबळे ने ऐसे की परिक्षा की तयारी

यूपीएससी परीक्षा देना कोई आसान बात नही होती है. लेकिन वह मुश्किल भी नही होती है. इस बात को मन में ठाणकर Sharan Kamble UPSC exam की तयारी करणे लग गये. हररोज वह 18 से 20 घंटे पढाई के लिए देते थे. उनका लक्ष यूपीएससी एक्झाम पास करणा था. साथ ही अपने माता पिता का कष्ट दूर करने का सपना देखा था. शरण बताते है उनका घर आर्थिक परिस्थिती का सामना कर रहा था. कही बार तो ऐसा भी होता का परिवार रात को भूखा ही सोता था.

माता पिता का कडा संघर्ष

शरण अपने कामयाबी का सारा श्रेय अपने माता और पिता को देते है. वाहक कहते है हमारे घर की स्थिति गरिबी की थी लेकिन पिताजी गोपीनाथ और माता सुदामती ने हमारे पढाई के लिए कष्ट उठा रहे है. गोपीनाथ जी लोगो के खेतो मे काम करते और रात मे खेती रखवाली भी करते थे. सुदामती जी सब्जिया बेचकर परिवार चलाने के लिए मदत करती थी. बच्चो को अच्छी शिक्षा मिले इसके लिये गोपीनाथ और सुदामती प्रयास करते रहे.  इसीलिये Sharan Kamble ने UPSC exam की तयारी करने के लिए शरण को नई दिल्ली भेजा था. शरण के पिताजी गोपीनाथ कहते है, मुझे नही मालूम मेरा बेटा कहा तक और क्या पढ़ा है. लेकीन शिक्षा के माध्यम से चमत्कार हो सकता है.

जानले हमारी नौसेना का महत्व : Importance of Indian Navy

शरण को मिलेगी कोनसी पोस्ट

सोलापुर जिले के बार्शी तहसील के तडवले गाव मे Sharan Kamble के पास सिर्फ देढ एकर खेती है. फिर भी गोपीनाथ जी ने अपने बडे बेटे दादा सहाब को इंजिनियर बनाया और Sharan Kamble को यूपीएससी कराया.

UPSC exam पास करने के बाद शरण अब border security force BSF, Central reserve force, CRPF, Central industrial security force, CISF, Indo Tibetan border police ITBP इन सारे मे जा कर काम कर सकते है.

हमने देखा परिस्थिती कोई भी हो लेकिन इंसान के अंदर सफलता प्राप्त करने का ज्जबा यदि हो तो कोई मंजिल मुश्‍किल नही रहती है. परिस्थिती का सामना करते हुए हर मुष्कील से लढा जा सकता है. Sharan Kamble की कामयाबी हम सबको यही बात सिखाती है. यदि दिल मे जोश हो और हमने ठाण लिया हो तो कोई बात मुश्‍किल नही रहती है. अपनी मेहनत और शिक्षा के बल पर हर चुनोती का सामना किया जा सकता है.

Author

शिक्षा यानी education जो हमारे जीवन को संस्कारित करती है. हमारे जीवन को आकार देती है. प्रेरणा यानी motivation हमे हर परिस्थिती से लढणे का बल प्रदान करती है. Education and motivation ये दोनो शब्द हमारे जीवन में काफी महत्व रखते है. Education और motivation इस विषय को लेकर हिंदी मे ब्लॉग लिख रहा हू, जिसका नाम है worldtruthblog.

Write A Comment

eighteen − 12 =