भारतीय वंश की गीतांजली राव बनी कीड ऑफ इयर

हमारे भारत देश कि मिट्टी बहुत महान है. इस मिट्टी से जन्मा हर कोई अपने अपने क्षेत्र में अलग कार्य कर दिखता है. अमेरिका मे स्थित भारतीय वंश की गीतांजली राव ने ऐसा ही कारनामा कर दिखाया है. TIME Kid of the Year के लिये गीतांजली राव का चयन किया गया है. जानते है गीतांजली के बारेमे विस्तार से.

बच्चो मे कार्यकुशलता और सबकुछ जा नने का उत्साह बहुत अधिक होता है. ऐसे माहोल मे बच्चो की कल्पनाशक्ती को मर्यादा पालको ने नही डालना चाहिए. यदि बच्चो को खुला आसमान मिलता है तो वह निश्चित रूप से आसमान मे उडान भर सकते है. TIME Kid of the Year का किताब पानेवाली गीतांजली राव ने यह सा बित कर दिखाया है.

TIME Kid of the Year

दुनिया भर में प्रसिद्ध टाईम मॅक्झिन की और से होनहार बच्चोका चयन किया जाता है. इस वर्ष भी
TIME Kid of the Year का चयन किया गया है. लगभग 5000 छात्रो से Kid of the Year का चयन किया जाता है. इसके लिये टाइम मॅगझीन मे अपनी एक कार्यशैली बनाई है. जहा पर बच्चो के विकसित गुणों के बारे मे जानकारी ली जाती है. साथ ही बच्चो का सामाजिक दृष्टिकोन भी देखा जाता है. टाइम मैगजीन ने पहली बार किसी किशोर को Kid of the Year के खिताब से नवाजा है.

जीवन मे सफलता पाने की लिये यह अवश्य पढे : 10 ways to get success in life

गीतांजली बनी Kid of the Year

इस वर्ष टाईम मॅगझिन के माध्यम से पहिलीबार किसी किशोर को कीड ऑफ इयर का सम्मान दिया गया है. गीतांजली राव ने टेक्नॉलॉजी का इस्तेमाल करके दूषित पेयजल और सायबर जैसे मुद्दो को नीपटने का कार्य किया है. भारतीय मूल की भारतीय अमेरिकी (Indian-American) किशोरी गीतांजलि राव (Gitanjali Rao) को उनके काम के लिए TIME की पहली किड ऑफ द ईयर चुना गया है.

कैसे हुआ का चयन

भारतीय मूल वंश की गीतांजली 15 साल की है. इस चुनाव के लिए हे गीतांजली के साथ पाच हजार दावेदार. TIME Kid of the Year के एकेडमी अवॉर्ड विजेता एंजेलिना जोली (Angelina Jolie) ने गीतांजलि का इंटरव्यू किया. गीतांजलि ने दुनिया में सामाजिक परिवर्तन लाने के लिए साइंस और टेक्नोलॉजी का उपयोग के बारे में सोचना शुरू कर दिया था. गीतांजलि ने कहा कि 10 साल की उम्र में उसने पहली बार अपने माता पिता से कार्बन नैनो ट्यूब सेंसर टेक्नोलॉजी (carbon nanotube sensor technology) पर रिसर्च करने का जिक्र किया. यही बदलाव की शुरुआत थी, जब कोई इस काम को नहीं कर रहा तो मैं इसे करना चाहती हूं.

TIME Kid of the Year गीतांजली की खोज क्या है

दुनिया भर मे मशहूर टाईम मॅगझीन का किताब जितना कोई आसान बात नही है. TIME Kid of the Year के लिये गीतांजली का चयन हुआ है. जानते है उसके कार्य के बारे मे. गीतांजली की खोज 1 किंडले Kindly ॲप है. इस ॲप का उपयोग साइबर बुलिंग रोकने के लिए किया जाता है. ये एक ऐप और क्रोम एक्सटेंशन है, जो शुरुआत में ही साइबर बुलिंग को पकड़ सकता है. ऐसा करने में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस टेक्नोलॉजी की मदद ली जाती है. गीतांजली ने कहा मेरा मकसद सिर्फ अपनी डिवाइस बनाकर दुनिया की समस्याएं सुलझाने तक सीमित नहीं रहा बल्कि अब मैं औरों को भी ऐसा करने के लिए प्रेरित करना चाहती हूं.

गीतांजली सोचती है समाज के बारे मे

कम उमर मे समाज के बारे में सोचने वाले बहुत कम मिलते है. गीतांजली की सोच सामाजिक दायित्व वाली है. TIME Kid of the Year के चयन के बाद गीतांजली ने कहा, जो समस्या हमने पैदा नही कि उनका तकनीकी के जरिये हल करना है. हमारी पीढ़ी समस्या का सामना कर रही है. यह समस्या नयी है साथ ही पुरानी समस्या भी हमारे सामने है. जैसी की वैश्विक महामारी का सामना हर कोई कर रहा है, मानव अधिकार का मुद्दा भी समस्या बनून रहा है. यह सारी समस्या है इनका जवाब आम्ही ढूंढना है.

गीतांजली जब दस साल कि थी तब उसने अपने माता पिता से कहा था कि वह कार्बन नैनो ट्यूब सेंसर टेक्नोलॉजी पर डेनवर वाटर क्वॉलिटी रिसर्च लैब में रिसर्च करना चाहती है. बच्ची जो चाहते है वह यदि उनको करणे दिया जाये तो वह बहुत अच्छा कार्य खडा कर सकते है. इसकी मिसाल
TIME Kid of the Year का खिताब जीतने वाली गीतांजली राव है. भारतीय वंश की होने की कारण हम सब भारत वासी के लिए यह गर्व की बात है.

Author

शिक्षा यानी education जो हमारे जीवन को संस्कारित करती है. हमारे जीवन को आकार देती है. प्रेरणा यानी motivation हमे हर परिस्थिती से लढणे का बल प्रदान करती है. Education and motivation ये दोनो शब्द हमारे जीवन में काफी महत्व रखते है. Education और motivation इस विषय को लेकर हिंदी मे ब्लॉग लिख रहा हू, जिसका नाम है worldtruthblog.

Write A Comment

ten + nineteen =