अंतरराष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस का महत्व

दोस्तो जहा लोगो की यानी प्रजा की सत्ता हो, प्रजा का महत्व हो, लोगो की मर्जी से सरकार जुनी गयी हो इसको हम लोकतंत्र का राज्य कह सकते है. पूरी दुनिया में 15 सितम्बर को international democracy day मनाया जाता है. लोकतंत्र के लिये वातावरण तयार हो, लोकतंत्र को बढावा मिले इसलिये यह दिवस दुनिया भर मे मनाया जाता है.

हे कैसा राष्ट्र जहा कोई तानाशाह नही हो, कोई हुकूमशहा नही हो, जहाँ सिर्फ लोगो का राज्य हो उसे लोकतंत्र शासन कहते है. संयुक्त राष्ट्र सभा ने लोकतंत्र को बढावा देणे के लिये 2007 मे अंतरराष्ट्रीय लोकतन्त्र दिवस घोषित किया था. हरसाल यह दिवस पंद्रह सितंबर को मनाया जाता है. जानते है लोकतंत्र दिवस का महत्व क्या है.

अंतरराष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस का महत्व

International democracy day के संदर्भ मे विचार करे तो यह बात सामने आती है विश्व मे लोकतंत्र को बढावा देणे और उसे मजबूत करने के लिए संयुक्त राष्ट्रसभा ने प्रस्ताव को पारित किया था. 2008 इस वर्ष जिनेवा मे हुई संसद मे लोकतंत्र के पहिले चिन्ह को पेश किया गया. कब से पुरे विश्व मे लोकतंत्र दिवस मनाया जाने लगा. संयुक्त राष्ट्र ने अपने प्रस्ताव मे कहा था लोकतंत्र के लक्षण सभी जगह पर एक समान है. लोकतंत्र का कोई मॉडेल नही है जिसे लागू किया जा सके. लोकतंत्र जीवन के सभी पहलू और भागीदारी पर आधारित है.

क्या हमे लोकतंत्र की जरूरत है

International democracy day के महत्व को समझने से पहले हमे लोकतंत्र की जरूरत क्या है यह समजना होगा. आपको बता दे लोकतंत्र के लिए पिछले काही वर्ष में दूनिया के देशो मे आंदोलन किये गये. इन देशों के लोग सडको पर उतर आये थे. इस आंदोलन ने अरब देशो मे चिंगारी का काम किया. सिरिया, लिबिया, इजिप्त, ट्युनिशिया, यमन इन देशो मे लोकतंत्र की मांग बढने लगी. जो लोकतंत्र का महत्व अधोरेखित करता है.

दुनिया के देशों में लोकतंत्र की स्थिती

International democracy day का महत्व इस बात से पता चलता है कि दुनिया के कही देशो में लोकतंत्र के लिए हे आंदोलन किये गये.
नेपाल मे राजशाही की खिलाफ लोग रास्ते पर उतरे. यहापर लोकतंत्र स्थापित हुआ लेकिन संविधान बनाने के लिए ये संघर्ष जारी है. म्यानमार मे राजनीतिक तोर पर अब पहले से ज्यादास्थिरता देखणे मिलती है जिसका कारण लोकतंत्र कहा जाता है. दुनिया के ऐसे बहुत से देश है जो लोकतंत्र के लिये ये आज भी लढ रहे है.

भारत में लोकतंत्र की जडे कहा तक है

International democracy day को समझना है तो हमको अपने देश की और देखना होगा. हमारे देश में लोकतंत्र हजारो साल पुराना है. जिसके कोई उदाहरण हमारे प्राचीन ग्रंथ मे मिलते है. आपको बता दे भारत में वैदीक सभ्यता की शुरुवात मे ऋग्वेद की रचना के समय पाच हजार साल पहले लोकतंत्र की मजबूत निव रखी गई थी. बुद्ध के समय भारत में 700 जनपथ थे. और सोला इकाई थी. जिसको महाजनपद कहा जाता था. वर्तमान संसद की तरह महाजनपद परिषद का निर्माण किया था.

भारत मे है लोकतंत्र मजबूत

International democracy day को भारत ने सबसे अधिक महत्त्व दिया जाता है. क्युकीभारत दुनिया का एक मात्र ऐसा देश है जहां हर व्यक्ति को वोट देने का अधिकार है जो भारतीय नागरिक है. दुनिया के कही देशो मे यह अधिकार सभी को नही दिया गया है. अमेरिका मे वोट देने का अधिकार पाने के लिए हे कुछ पडाव पार करणे होते है. आपको बता दे आजादी के बाद भारत सरकार ने 560 रियासत को अपने मे मिला लिया था. यह दुनिया का सबसे बडा विलय माना जाता है.

डेमॉक्रॅसी इंडेक्स मे भारत पीछे

International democracy day के संदर्भ मे विचार करते वक्त हम अपने देश के अच्छे मुद्दो पर चर्चा करते है. लेकिन हमे वास्तविकता का भी ध्यान रखना होगा. और वास्तविकता यह कहती है democracy index मे भारत का स्थान पिछले वर्ष से नीचे आ रहा है. यह डेमोक्रसी इंडेक्स economist group का रिसर्च डिपारमेंट इंटेलिजन्स युनिट की मदत से हर वर्ष जारी करता है.
ये युनिटने दुनिया के 165 देशों के बारेमे रिपोर्ट जारी की है. जिसमे भारत दस स्थान नीचे आ गया है.
पिछले वर्ष यांनी 2019 को भारत रिपोर्ट में 51 के स्थान पर था इस वर्ष भारत का स्थान 41 है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि ‘भारत प्रशासित कश्मीर से अनुच्छेद-370 हटाए जाने, असम में एनआरसी पर काम शुरू होने और फिर विवादित नागरिकता क़ानून, सीएए की वजह से नागरिकों में बढ़े असंतोष के कारण भारत के स्कोर में गिरावट दर्ज की गई’.

दोस्तो लोकतंत्र को मजबूत बनाने की जिम्मेदारी देश के सभी नागरिको की होती है. जिसके लिए ये अपने अधिकार का सही इस्तेमाल करना होता है. यदि हर नागरिक democracy का महत्व समझेगा तो लोकतंत्र मजबूत होता रहेगा. और तभी पूरे विश्व में international democracy day अच्छे से मनाया जायेगा.

Author

शिक्षा यानी education जो हमारे जीवन को संस्कारित करती है. हमारे जीवन को आकार देती है. प्रेरणा यानी motivation हमे हर परिस्थिती से लढणे का बल प्रदान करती है. Education and motivation ये दोनो शब्द हमारे जीवन में काफी महत्व रखते है. Education और motivation इस विषय को लेकर हिंदी मे ब्लॉग लिख रहा हू, जिसका नाम है worldtruthblog.

Write A Comment

3 + nineteen =