दोस्तो हमारे देश के कइ स्थानो पर प्राचीन धरोहर आज भी अपनी संस्कृती को लेकर खडी है. हमारे देश के लगभग सभी प्राचीन मंदिर आज भी हमारी श्रद्धा को लेकर खडे है. हिंदी मंदिरो से हमे अपनी संस्कृति की प्राचीनता का पता चलता है.  प्रसिद्ध बारा ज्योतिर्लिंग सबसे अधिक प्राचीन मंदिर Kashi Vishwanath temple का ज्योतिर्लिंग है. आज हम जानते है काशी विश्वनाथ की कहानी

वाराणसी मे स्थित Kashi Vishwanath temple अतिप्राचीन माना जाता है. इस मंदिर को लेकर पौराणिक कथा प्रचलित है.एक कथा ऐसी भी है भगवान शंकर पार्वती विवाह करने के बाद कैलास पर रहने लगे. तब माता पार्वती जी इस बात को लेकर नाराज थी. यह बात उन्होंने भगवान शंकर को बताई. उनकी यह बात सुनकर भगवान शंकर पार्वती जी के साथ काशी मे आकर रहने लगे. और भगवान शंकर काशी मेही ज्योतिर्लिंग के स्वरूप मे स्थापित हो गये. इसी काल से भगवान शंकर जी का निवास काशी मे है ऐसा माना जाने लगा. मंदिर मे स्थित ज्योतिर्लिंग ज्योती निराकार परमेश्वर शिवशंकर बनकर विश्वनाथ के रूप मे साक्षात प्रगट हुए है.

Kashi Vishwanath temple की प्रसिद्ध आरती

भगवान शंकर जी का यह मंदिर जीस तरह प्राचीन है और पूरे देश मे प्रसिद्ध है उसी तरह इस मंदिर मे होने वाली आरती भी प्रसिद्ध है. इस मंदिर के शिखर पर सोने का लेप चढा है इसलिये स्वर्ण मंदिर भी कहते है महाराजा रंजीत सिंह ने यह  स्वर्ण लेपण करवाया था. इस मंदिर में मेन पाच बार आरती होती. Kashi Vishwanath temple 2.30 बजे मंदिर खुलता है. भक्तो के लिए यह मंदिर सुबह चार से ग्यारा खोल दिया जाता है.आरती होने के पश्चात 12 से 7 बजे तक दोबारा भक्त जन मंदिर मे पूजा कर सकते है. शाम को सात बजे सप्तऋषि की आरती होती है. रात को नो बजे भोग आरती होती है उसके बाद साडे दस बजे शयन आरती का आयोजन किया जाता है.रात मे ग्यारा बजे मंदिर बंद कर दिया जाता है.

Kashi Vishwanath temple से जुडी कुछ मान्यताये

भगवान शिव गंगा के किनारे नगरी मे निवास करते है ऐसी मान्यता है. शिवजी के त्रिशूल पर काशीनगरी बसी है और भगवान शिवजी काशी के संरक्षक है ऐसी मान्यता है.

मंदिर के उपर एक सोने का छत्र लगा है इसके दर्शन करने से लोगो की सभी मनोकामना पूर्ण होती है ऐसा माना जाता है.

जब पृथ्वी का निर्माण हुआ कब सूर्य की पहिली किरण काशी पर पडी एेसा माना जाता है.

काशीनगरी कोही मोक्ष की नगरी माना जाता है,इस मंदिर में उपस्थिती मात्र से ही जन्म जन्मांतर के चक्र से मुक्ती मिल जाती है.

Kashi Vishwanath temple देश मे ही नही बल्की पूरे विश्व में प्रसिद्ध है. यहा पर भूतो की मनोकामना पूर्ण होती है इसलिये ये हर सोमवार को यहा काफी भीड होती है. दुनिया भर के लोग यहाँ पर दर्शन के लिये आते है.

आक्रमणकारी योने इस मंदिर पर आक्रमण किया लेकिन यह मंदिर फिर भी अपनी पवित्रता को लेकर आज भी खडा है.

औरंगजेबने इस Kashi Vishwanath temple को जुडवा या था उसके बाद देवी अहिल्या ने काशी विश्वनाथ के इस मंदिर का पुनरनिर्माण किया.

Author

शिक्षा यानी education जो हमारे जीवन को संस्कारित करती है. हमारे जीवन को आकार देती है. प्रेरणा यानी motivation हमे हर परिस्थिती से लढणे का बल प्रदान करती है. Education and motivation ये दोनो शब्द हमारे जीवन में काफी महत्व रखते है. Education और motivation इस विषय को लेकर हिंदी मे ब्लॉग लिख रहा हू, जिसका नाम है worldtruthblog.

Write A Comment

9 + five =