पब्जी गेम भारत ने किया बँन

राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे को ध्यान मे रखते हुए भारत सरकार चीन द्वारा निर्मित pubg mobile game सहित 118 चिनी ॲप को भारत मे बंद कर दिया है. Pubg mobile game खेलने से बच्चो की युवा वर्ग मानसिक हालत को देखकर चिंता व्यक्त की गई है. साथ ही राष्ट्रीय सुरक्षा का मुद्दा भी सामने आया है जिससे यह गेम बेन किया गया है.

भारत सरकार ने अभी हाल ही मे यह निर्णय किया है कि भारत में pubg mobile game को बेन किया गया है. यह गेम मोबाईल पर हुआ है लेकिन आप इस desk टॉप और लॅपटॉप पर खेल सकते है. क्युकी pubg गेम के दो ॲप है. यह पहिले साऊथ कोरियाई कंपनीने खास कॉम्प्युटर के लिए बनाया था. मतलब सीधा है कि यह एक कॉम्प्युटर केम था जिसका साईज लगभग 2gb इतना था. तो अब भारत मे यह गेम सिर्फ  मोबाईल पर बैन हुआ है.

Pubg और pubg mobile game मे क्या है फरक 

आपको यह बता दे की Pubg और pubg mobile इन दोनों गेम काफी फरक है. दोनो का काम करणे का तरिका अलग है.  PUBG को साउथ कोरियाई कंपनी PUBG Corporation ने 2017 मे बनाया है, जो कि साउथ कोरियाई वीडियो गेम कंपनी ब्लूव्हेल की सब्सिडियरी कंपनी है. चीन ने PUBG गेम को इजाजत नही दी. इसके लिए PUBG Corporation ने चीन की लोकल गेमिंग कंपनी Tencent कंपनी का सहारा लिया. बता दें कि Tencent एक चीनी कंपनी है, जिसने PUBG Mobile और PUBG Mobile Lite गेम को बनाया है. चीनी कंपनी के बनाए गए इन दोनों गेमिंग ऐप PUBG Mobile और PUBG Mobile Lite को ही भारत में pubg mobile game    बैन किया गया है.

भारत ने पहिले भी किया ॲप बेन

भारत सरकारने राष्ट्रीय सुरक्षा की मुद्दे को सामने रखते हुए चीन के pubg mobile game को बेन दिया है. भारत ने यह कारवाई पहिली बार की है ऐसा नही है. इसके पहिले भी भारत ने चीन के ॲप को बेन किया है. 15 जून को भारत ने चीन के 59 ॲप को बंद कर दिया था इसके बाद भी 47 ॲप पर प्रतिबंध लाया था.


क्यू किया pubg gam बेन

भारत सरकार ने pubg mobile game को बेन किया है. जानते है इसकी पीछे क्या कारण है. यह मोबाईल गेम खेलणे से बच्चो और युवाओके दिमाग पर क्या असर पडता है इसके बारे मे जानकारी ली गई है. जिस से कुछ तथ्य सामने आये है जो इस प्रकार है.

गेमिंग का नशा हावी होने लगा है.

इसकी लत से फिजिकल हेल्थ से लेकर मेंटल हेल्थ पर भी असर डाल रही है.

मेंटल हेल्थ कंडीशन के करीब 120 केस अब तक नैशनल इंस्टिट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ ऐंड न्यूरो साइंस में रिपोर्ट किए गए हैं.

Player Unknown’s Battleground जिसे PUBG भी कहा जाता है हाल ही में बेंगलुरू के युवाओं के माता-पिता के लिए नई परेशानी बन गया है. 

नींद की परेशानी होती है.

वास्तविक जीवन से हम दूर होने लगते है.

कॉलेज व स्कूल से लगातार ऐब्सेंट रहने लगते है.

गेम छोड़ने पर गुस्सा बढ़ने जैसी समस्याओं से पीड़ित युवा मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है.

बच्चे हो रहे अग्रेसिव्ह

भारत सरकारने pubg mobile game को बेन किया है. इसे बँन करने का कारण यह है कि यह गेम बच्चो के दिमाग पर गलत असर छोडता है. बेंगलोर मे एक माता पिता अपने उन्नीस साल के लडके को डॉक्टर के पास लाये थे. यह लडका रात को करीब चार बजे के बाद गेम खेलता था. जिसकी वजह से उसका स्लीपिंग पॅटर्न बदल गया था. वह कॉलेज मे ऐब्सेंट रहने लगा. उसके मार्क्स गिरणे लगे. माता पिता ने उसे गेम छोडणे को कहा तो वह अग्रेसिव हो गया.

भारत सरकारने pubg mobile game को लेकर कुछ स्टडी भी किया था. जिसके रिझल्ट देखने के बाद यह गेम भारत में बेन किया गया. डॉक्टर्स के मुताबिक गेमिंग की लत वाले युवा मेंटल हेल्थ कंडीशन से पीड़ित होते हैं.  इसका कोई इलाज नहीं है बस लंबे समय और धैर्य के साथ ही इस समस्या को दूर कम किया जा सकता है. अपने बच्चों की इस मेंटल हेल्थ का असर पैरंट्स पर भी होता है ऐसे में कई बार उनकी भी काउंसलिंग की जाती है.

भारत मे हुआ था pabji game सबसे अधिक डाउनलोड. नीचे दिये लिंक को पढे.

https://worldtruthblog.com/pubg-game

Author

शिक्षा यानी education जो हमारे जीवन को संस्कारित करती है. हमारे जीवन को आकार देती है. प्रेरणा यानी motivation हमे हर परिस्थिती से लढणे का बल प्रदान करती है. Education and motivation ये दोनो शब्द हमारे जीवन में काफी महत्व रखते है. Education और motivation इस विषय को लेकर हिंदी मे ब्लॉग लिख रहा हू, जिसका नाम है worldtruthblog.

Write A Comment

four × 3 =