महिला समानता दिवस

दोस्तो संसार का एक अभिन्न अंग जी से कहा जायेगा वह स्त्री के रूप मे है. अपने देश मे महिलाओ को देवी का स्थान दिया गया है. शक्ती की रूप मे उनकी पूजा की जाती है. महिला आज हर क्षेत्र मे आगे है. महिला समानता दिवस यानी women equality day 26 अगस्त को मनाया जाता है. जानते है इस दिन का महत्व.

पुरुशो के साथ चलते हुए महिलाओने हरक्षेत्र मे अपना नाम रखा है. कोई भी क्षेत्र लेलो जिसमे महिला पुरुशो के साथ खडी ना हो. राजकारण समाजकारण यहा तक अवकाश क्षेत्र मे भी महिलाओं ने अपनी प्रगती दिखाइ है. इन सब बातो के बावजूद भी महिला अपने अधिकार ओ के लिए आज भी लढ रही है.

Women equality day history

हर वर्ष की 26 अगस्त को women equality day मनाया जाता है.1893 मे न्यूझीलंडने इस दिवस की सुरुवात की थी. अमेरिका मे 26 अगस्त 1920 को संविधान संशोधन के माध्यम से महिला मतदान का अधिकार मिला. इसके पहिले महिलाओ को द्वितीय श्रेणी नागरिक का दर्जा प्राप्त था. समानता का अधिकार दिलाने के लिए संघर्ष करनेवाली महिला वकील बेल्ला ते प्रयास से 1971 वर्ष की 26 अगस्त से महिला समानता दिवस पूरी दुनिया मे मनाया जाने लगा.

भारत में कैसे हुई सुरुवात

Women equality day के संदर्भ मे विचार करे तो भारत में आजादी के बाद से ही महिलाओं को वोट देने का अधिकार प्राप्त था. दूसरी ओर पंचायत और नगर चुनाव लढणे का कानूनी अधिकार 73 वे संविधान संशोधन के माध्यम से पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के प्रयास के बाद मिला. हम यहे सकते है की महिला समानता के बारे मे राजीव गांधीजीने पहेल की. आज भारत की पंचायतों में महिलाओं की 50 प्रतिशत से अधिक भागीदारी है.

महिलाओ को अधिकार मिला लेकिन…

Women equality day हर वर्ष मनाया जाने लगा. लेकिन महिलाओ को समान अधिकार मिला है क्या? यह प्रश्न वास्तविक है. भारत मे आजादी के बाद भी महिलाओ की परिस्थिती ठीक नही है. महिलाओ को समाज मे समानता मिली है लेकिन परिवार में समान दर्जा नही मिला है. अपनेही घर मे समान अधिकार नही प्राप्त हो रहा है. उसे प्राप्त करने के लिए महिला को परिवार से लडना पड रहा है. दुसरी तरफ समाज मे भी महिलाओ के विरुद्ध अत्याचार की घटना आये दिन घटित होती रहती है. ऐसे माहोल मे समान अधिकार की बात कैसे हो सकती है.

महिलाओं की जिद्द को सलाम

Women equality day का मतलब यह है की महिलाओ को समान अधिकार मिले. लेकिन समाजिक वातावरण कुछ अलग है फिर भी महिला पुरुषों को टक्कर दे रही है. चाहे कोई भी क्षेत्र हो महिला अपनी छाप वहा पर छोडती जा रही है. हर जिम्मेदारी महिला पुरी तन्मयता के साथ निभाती आ रही है. शायद महिलाओ को शक्ति का रूप इसीलिये कहा जाता है.

घर से लेकर देश संभालती महिला

Women equality day के संदर्भ मे विचार करे तो महिलाओ की अंदरूनी शक्ती काफी strong होती है. इसलिये हर विपरीत परिस्थिती मे वह सक्षमता के साथ खडी रहती है. चाहे घर हो या देश दोनो को संभालने की जिम्मेदारी वह अच्छे से निभाती है. उदाहरण दिया जाये तो श्रीमती इंदिरा गांधी का दिया जा सकता है. पूर्व राष्ट्रपति के पद पर प्रतिभा देवी सिंह पाटिल रह चुकी हैं वहीं पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्ष ममता बनर्जी राज्य की बागडोर संभाल रही हैं, बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष भी एक महिला मायावती हैं. कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को तो विश्व की ताकतवर महिलाओं में शामिल है. वहीं चंद्रयान2 मिशन में भी नारी शक्ति ने अपनी अहम जिम्मेदारी निभाई। बैंक सेक्टर, बॉलीवुड, शिक्षा कोई भी क्षेत्र हो महिलाओं ने हर जगह कामयाबी हासिल की है.

घरसे दे महिलाओ को अधिकार

Women equality day का विचार यदि दृढ करना हो तो हमे अपने घर मे ही महिलाओ को समान अधिकार देणे चाहिये. देश के हर परिवार में यह विचार किया जाता है तो अपने आप ही परिवार और समाज में महिलाओं को समान अधिकार मिलना शुरू हो जायेगा. इसके लिए हमे अलग प्रयास करने की जरूरत नही आयेगी. अनिवार्य प्राथमिक शिक्षा पाने के अधिकार, माता पिता की जिम्मेदारी के बारे में सूचना आदि, विकलांग बच्चों की सुरक्षा आदि के लिए भी हमे प्रयास करना होगा.

सामाजिक जागृती आवश्यक

Women equality day के बारेमे सोचते हो गये हमें सामाजिक जागृती भी करनी होगी. तब जाकर महिलाओ को समान अधिकार मिल सकते है. आज भी ग्रामीण क्षेत्र में बच्चियों की पढाई के बारेमे निराशाजनक वातावरण है. हमे यह वातावरण बदलना होगा. इसके लिए सामाजिक जागृती आवश्यक है.

तो चले आज हम women equality day को मनाते हुए अपने घर से ही महिलाओ को समान अधिकार देणे का प्रयास करते है. यदि हर परिवार यह सुरुवात करता है तो महिलाओ को सच मे समान अधिकार प्राप्त होंगे.

Author

शिक्षा यानी education जो हमारे जीवन को संस्कारित करती है. हमारे जीवन को आकार देती है. प्रेरणा यानी motivation हमे हर परिस्थिती से लढणे का बल प्रदान करती है. Education and motivation ये दोनो शब्द हमारे जीवन में काफी महत्व रखते है. Education और motivation इस विषय को लेकर हिंदी मे ब्लॉग लिख रहा हू, जिसका नाम है worldtruthblog.

Write A Comment

5 × 2 =