आज दुनिया में निर्माण हुए coronavirus से हम सब लढ रहे है. हम सभी के लिए World health organisation यांनी विश्व स्वास्थ्य संघटन काम कर रहा है. इस संघटन से दुनिया के लगभग सभी देश जुडे है. संघटन की पहिली मीटिंग 24 जुलै 1948 को हुई थी. संघटन का मुख्यालय Switzerland के जिनिवा शहर मे है.

संघटन का कार्य

यह एक वैश्विक स्वास्थ्य संघटन है. दुनिया भर में निर्माण हुए स्वास्थ्य संबंधी प्रश्न का हल निकालनेका कार्य World health organisation यांनी WHO करता है. इस संघटन के द्वारा दुनियाभर के बहुत से रोगो पर उपाय सूझाये गये है. नवजात बालक, माता एवम संक्रमण कारी रोग से लढणे के लिये यह संघटन कार्य कर्ता है. भारत भी विश्व स्वास्थ्य संगठन का सदस्य है. भारत में इसका मुख्यालय दिल्ली में है.

संघटन का वास्तविक कार्य

 संगठन की प्रमुख वास्तविक प्राथमिकताओं में मलेरिया (Malaria), मातृ तथा शिशु स्वास्थ्य (Mother and Child Health), ट्यूबरक्लोसिस (Tuberculosis), यौन रोग (Venereal Disease), पोषण (nutrition) तथा पर्यावरणीय स्वच्छता (Environmental Sanitation) इत्यादि विषय सम्मिलित थे. 

संघटन का जिनीवा स्थित कार्यालय

संघटन की उपलब्धि

1970 के दशक के दौरान, डब्ल्यूएचओ ने वैश्विक मलेरिया उन्मूलन अभियान के लिए अपनी प्रतिबद्धता को बहुत महत्वाकांक्षी के रूप में गिरा दिया, इसने मलेरिया नियंत्रण के लिए एक मजबूत प्रतिबद्धता को बनाए रखा. डब्ल्यूएचओ का वैश्विक मलेरिया कार्यक्रम मलेरिया के मामलों और मलेरिया नियंत्रण योजनाओं में भविष्य की समस्याओं पर नज़र रखने का काम करता है. यह तम्बाकू, शराब, ड्रग्स और अन्य मनोदैहिक पदार्थों, अस्वास्थ्यकर आहार और शारीरिक निष्क्रियता के उपयोग से जुड़ी स्वास्थ्य स्थितियों” के लिए जोखिम कारकों को रोकने या कम करने की कोशिश करता है.

संघटन की सदस्यता

प्राकृतिक और मानव निर्मित आपात स्थितियों में विश्व स्वास्थ्य संगठन का प्राथमिक उद्देश्य सदस्य राज्यों और अन्य हितधारकों के साथ समन्वय करना है ताकि “जीवन के नुकसान को कम किया जा सके और डिस का बोझ कम किया जा सके. WHO के सर्वोच्च निर्णय लेने वाले निकाय नियुक्त करते हैं. संयुक्त राष्ट्र के सभी सदस्य डब्ल्यूएचओ की सदस्यता के लिए पात्र हैं, और डब्ल्यूएचओ की वेबसाइट के अनुसार, “अन्य देशों को सदस्य के रूप में स्वीकार किया जा सकता है जब उनके आवेदन को एक साधारण बहुमत के मत से अनुमोदित किया गया हो.

Author

शिक्षा यानी education जो हमारे जीवन को संस्कारित करती है. हमारे जीवन को आकार देती है. प्रेरणा यानी motivation हमे हर परिस्थिती से लढणे का बल प्रदान करती है. Education and motivation ये दोनो शब्द हमारे जीवन में काफी महत्व रखते है. Education और motivation इस विषय को लेकर हिंदी मे ब्लॉग लिख रहा हू, जिसका नाम है worldtruthblog.

Write A Comment

two × 4 =