जानते है रोज डे क्यू मनाया जाता है

दोस्तो हमारी दुनिया प्रकृति के कई उपहार लेकर सजी है. प्रकृति के अनेक उपहार से जुडा एक उपहार गुलाब के फूल का है. गुलाब का फूल का टोपे खिलता है और इंसान को जीने की नयीं दिखाता है. आपको बता दे 22 सितम्बर को पूरी दुनिया में world Rose day मनाया जाता है. जानते है रोज डे क्यू मनाया जाता है.

दोस्तो हम जब भी बागीचे मे खिलते हुए फुलो को देखते है तो हमारा मन प्रसन्न हो जाता है. विशेष कर जब हम गुलाब के फुलो को देखते है, तो हमें जीवन के संघर्ष से लढणे की एक नयीं प्रेरणा मिलती है. काटो पर खीलने वाला गुलाब सभी को अपने जीवन की प्रेरणा लगता है. World Rose day के अवसर पर जानते है क्या है इसकी कहानी.

World Rose day क्यू मनाते है

22 सितम्बर को पूरे विश्व में world Rose day मनाया जाता है. यह दिन कॅन्सर जैसी गंभीर बिमारी से लढ रहे लोगो को समर्पित है. उनके जीवन में आशा का नया दीप जला कर गंभीर बिमारी से लढणे की प्रेरणा देणे के लिए यह दिवस मनाया जाता है. हम सब को यह पता है कॅन्सल जैसी बिमारी कभी भी गंभीर स्वरूप धारण कर सकती है. इससे लढणे के लिए हमारा मनोबल सकारात्मक और दृढ होना जरूरी है.

क्या है world Rose day की कहानी

सब को यह बता दे world Rose day कॅन्सर से लढणे वाले बारावर्षीय बच्ची के होसले को समर्पित है. इस नन्ही सी बच्ची का नाम है मेलिंडा रोज. जो कॅन्सर जैसी गंभीर बिमारी से लढ रही थी. इस बिमारी से लढते हुए उसे हराने का जजबा मेलिंडा रोज के मन मे जागृत हुवा और उसने कॅन्सर से पीडीत लोगो का होसला बढाया. लाखो लोगो कि वह प्रेरणास्रोत बन गई.

जानते है मेलिंडा रोज के बारे मे

मेलिंडा रोज की याद मे हर वर्ष 22 सितम्बर को मनाया जाता है. मेलिंडा बारा वर्ष की नन्हीं बच्ची थी. 1994 ने उसे आस्किन ट्यूमर जैसी गंभीर बिमारी हो गई. यह एक अति दुर्लभ खून का कॅन्सर है. डॉक्टर के अनुसार वह कुछ दिनों की मेहमान थी. उसकी अवस्था अंतिम चरण में पहूच गयी थी. लेकींग मेलिंडा ने अपने पुरे मनोबल के साथ इस बिमारी से लढने का प्रयास किया.

मेलिंडा ने किया सकारात्मक प्रयास

World Rose day मेलिंडा की याद मे मनाया जाता है. कॅन्सर की बिमारी होने के बाद भी मेलिंडा ने अपने आस पास के कॅन्सर पीडित लोगो को इस बिमारी से लढणे के लिए प्रेरित किया. सबके जीवन में सकारात्मक भाव को उसने निर्माण किया. कॅन्सर पीडित मरीज को पत्र लिखती कविता और ई-मेल के माध्यम से उन्हे प्रेरित करती रहती थी. मेलिंडा के सकारात्मक प्रयास की वजहसे बहुत सारे कॅन्सर पीडित मरीज इस बिमारी से लढणे के लिए तयार हुये. इसीलिये मेलींदा की याद में हर वर्ष 22 सितंबर को world Rose day मनाया जाता है.

Author

शिक्षा यानी education जो हमारे जीवन को संस्कारित करती है. हमारे जीवन को आकार देती है. प्रेरणा यानी motivation हमे हर परिस्थिती से लढणे का बल प्रदान करती है. Education and motivation ये दोनो शब्द हमारे जीवन में काफी महत्व रखते है. Education और motivation इस विषय को लेकर हिंदी मे ब्लॉग लिख रहा हू, जिसका नाम है worldtruthblog.

Write A Comment

two × four =